34.7 C
New York
Tuesday, July 16, 2024

नाम के पहले अक्षर से जानें अपना राशि Hindi and English 2023

अधिकांश तारामंडल जिसके माध्यम से क्रांतिवृत्त गुजरता है, जानवरों का प्रतिनिधित्व करता है, प्राचीन यूनानियों ने इसके क्षेत्र को ज़ोडियाकोस किक्लोस, “जानवरों का घेरा” या ता ज़ोडिया, “छोटे जानवर” कहा। राशि चक्र नक्षत्रों का आकार और संख्या प्राचीन काल में भिन्न थी और गणितीय खगोल विज्ञान के विकास के साथ ही निश्चित हो गई थी।

ये संकेत अब उन खगोलीय नक्षत्रों के अनुरूप नहीं हैं जिनमें सूर्य वास्तव में दिखाई देता है। नक्षत्र आकार और आकार में अनियमित हैं, और सूर्य नियमित रूप से एक नक्षत्र (ओफियुचस) से गुजरता है जिसे राशि चक्र का सदस्य नहीं माना जाता है।

पृथ्वी की कक्षा के समतल और सूर्य के स्पष्ट वार्षिक पथ की है। चंद्रमा और प्रमुख ग्रहों की कक्षाएँ भी पूरी तरह से राशि चक्र के भीतर स्थित हैं। राशि चक्र के 12 ज्योतिषीय चिह्नों में से प्रत्येक को इसके महान चक्र के 1/12 (या 30 डिग्री) पर कब्जा करने के लिए माना जाता है।

जिसमें उस युग में सूर्य के उनके बीच से गुजरने की तारीखें दी गई हैं जब उनकी सीमाएं तय की गई थीं। इन तिथियों का उपयोग अभी भी ज्योतिषीय संकेतों के लिए किया जाता है, हालांकि विषुवों की पूर्वता ने नक्षत्रों को पूर्व की ओर स्थानांतरित कर दिया है; जैसे 1 जनवरी को सूर्य की दिशा अब मकर राशि के स्थान पर धनु राशि में है। प्रतीकों का इतिहास अज्ञात है; ऐसा प्रतीत होता है कि वे सबसे पहले उत्तर मध्य युग की ग्रीक पांडुलिपियों में दिखाई देते हैं।

नाम के पहले अक्षर से जानें अपना राशि Hindi and English

How to know your zodiac sign/ अपनी राशि कैसे जाने 

क्रमांक  राशि का नाम  अक्षर
1.  मेष चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, आ
2. वृष/वृषभ ई, उ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो
3.  मिथुन का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, ह
4. कर्क ही, हू, हे, हो, डा, डी, डु, डे, डो
5.  सिंह मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे
6. कन्या ढो, प, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो
7. तुला र, री, रू, रे, रो, ता, ति, तू, ते
8. वृश्चिक तो, न, नी, नू, ने, नो, या, यि, यू
9.  धनु य, यो, भा, भि, भू, ध, फा, ढ, भे
10. मकर भो, जा, जी, खी, खू, खे, खो, गा, गी
11.  कुम्भ गू, गे, गो, स, सी, सू, से, सो, द
12. मीन दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, च, ची

 

Know your zodiac by the first letter of the Name

कुम्भ राशि (Kumbh Rashi)

कुंभ राशि चक्र में ग्यारहवीं ज्योतिषीय राशि है। यह हवा और पानी से जुड़ा हुआ है, और यह यूरेनस द्वारा शासित है। राशि चक्र, कुंभ राशि में ग्यारहवें ज्योतिषीय चिन्ह पर यूरेनस का शासन है। इस चिन्ह का प्रतीक दो कलशों से जल निकालने वाला है।

मेष राशि (Mesh Rashi)

मेष राशि एक राशि है जो राशि चक्र में सबसे पहली राशि है। यह राम द्वारा दर्शाया गया है। मेष राशि प्राचीन काल से चली आ रही है और यह वसंत की शुरुआत का प्रतीक है। यह पूरे इतिहास में कई पौराणिक कथाओं, धर्मों और संस्कृतियों का हिस्सा रहा है।

कर्क राशि (Kark Rashi)

कर्क नक्षत्र समय के साथ कई मिथकों और किंवदंतियों से जुड़ा रहा है, जिसमें एक विशाल केकड़े के बारे में कहानियाँ शामिल हैं जो सूर्य, चंद्रमा और अन्य खगोलीय पिंडों को खा जाएगा।

मकर राशि (Makar Rashi)

मकर राशि को मछली और केकड़े के संयोजन के रूप में वर्णित किया गया है, जिसका शरीर मछली की तरह और इसकी पूंछ केकड़े की तरह होती है। नक्षत्र अपने दो सबसे चमकीले सितारों, डेनेब और एक्रुक्स के लिए जाना जाता है। मकर राशि अपने तारामंडल के लिए भी प्रसिद्ध है, जो सितारों का एक पैटर्न है जिसे नग्न आंखों से देखा जा सकता है।

मिथुन राशि (Mithun Rashi)

जेमिनी नक्षत्र का नाम ग्रीक पौराणिक कथाओं में दो भाइयों के नाम पर रखा गया था: कैस्टर और पोलक्स। दोनों जुड़वाँ बच्चे थे जिनका जन्म लेडा और टायंडारेस से हुआ था। एक तारामंडल सितारों का एक समूह है जो आकाश में एक पैटर्न बनाता है, जैसे “C” या “W” अक्षर का आकार। मिथुन नक्षत्र आकाश में सबसे प्रसिद्ध नक्षत्रों में से एक है। ये दोनों तारे एक-दूसरे के पास स्थित हैं और हर साल एक-दूसरे की परिक्रमा करते हैं।

सिंह राशि (Sinh Rashi

सिंह नक्षत्र सितारों का एक बड़ा, चमकीला और आसानी से पहचाने जाने वाला समूह है। यह आकाश में सबसे चमकीले नक्षत्रों में से एक है और इसे पृथ्वी पर कहीं से भी देखा जा सकता है। इसे पूरे इतिहास में कई अलग-अलग नामों से जाना जाता है, जिनमें द लायन और द ग्रेट बियर शामिल हैं।

तुला राशि (Tula Rashi)

तुला नक्षत्र सितारों का एक समूह है जो प्रकाश के एक बिंदु के रूप में दिखाई देता है। इसे “तुला बिंदु” के रूप में भी जाना जाता है। तुला नक्षत्र सितारों का एक समूह है जो आकाश में एक पैटर्न बनाता है। यह एक लोकप्रिय तारामंडल है क्योंकि इसे नग्न आंखों से देखा जा सकता है और इसका उपयोग दिशा खोजने के लिए किया जाता रहा है।

मीन राशि (Meen Rashi)

मीन नक्षत्र छह सितारों का एक समूह है जो दक्षिणी आकाश में कुंभ और मकर राशि के बीच पाया जा सकता है। मीन राशि एक तारामंडल है, जिसका अर्थ है कि इसमें ऐसे तारे हैं जो नग्न आंखों से देखे जा सकते हैं। यह एक राशि चिन्ह भी है, जिसका अर्थ है कि यह सितारों से बना है जो वर्ष के दौरान कुछ मौसमों और महीनों में दिखाई देते हैं।

धेनु राशि (Dhenu Rashi)

धनु राशि उत्तरी गोलार्ध में स्थित तारों का समूह है। यह मुख्य रूप से मिल्की वे में पाया जाता है। धनु नक्षत्र उन कुछ राशियों में से एक है जो दोनों गोलार्द्धों को दिखाई देती हैं। इसकी एक बहुत ही विशिष्ट आकृति है, जिससे इसे पहचानने और याद रखने में आसानी होती है।

वृश्चिक राशि (Vrishchik Rashi)

वृश्चिक राशि का संबंध मृत्यु और पुनर्जन्म से है, जिसका अर्थ है कि इसके कई आध्यात्मिक निहितार्थ भी हैं। वृश्चिक राशि आकाश में समान पैटर्न वाले तारों का समूह है। यह उत्तरी गोलार्ध में स्थित है, और इसे पृथ्वी पर किसी भी बिंदु से देखा जा सकता है।

वृषभ राशि (Vrishabh Rashi)

वृष नक्षत्र तारों का एक समूह है जो उत्तरी गोलार्ध में दिखाई देता है। वृष नक्षत्र का प्रतीक बैल है और यह उत्तरी गोलार्ध में पाया जा सकता है। मूल रूप से इसका नाम मिस्र के देवता टौरेन के नाम पर रखा गया था, जो प्रजनन क्षमता और जीवन का प्रतिनिधित्व करते थे।

कन्या राशि (Kanya Rashi)

कन्या राशि कन्या राशि में चमकीले तारों का समूह है। कन्या एक नक्षत्र है जो बुद्धिमता, जिज्ञासा और पूर्णतावाद का प्रतीक है। कन्या राशि राशि चक्र का एक भाग है। यह उत्तरी गोलार्ध में एक छोटा तारामंडल है और इसमें केवल पाँच तारे हैं।

  Read More:  क्या कहते हैं आपके सितारे जाने, और कैसा रहेगा आपका 2023 का शुरूआती सफर: Horoscope 2023

Saptahik Patrika
Saptahik Patrikahttps://saptahikpatrika.com
I love writing and suffering on Google. I am an professional blogger.

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles